गिरावट थमी, शेयर बाजार में लौटी तेजी

मुंबई – वैश्विक स्तर के कमजोर संकेतों के बावजूद घरेलू स्तर पर सीजी, बैंकिंग, वित्तीय सेवायें, सेवायें, टेक, धातु, तेल एवं गैस, इंडस्ट्रीयल और ऑटो जैसे समूहों में हुयी लिवाली के बल पर शेयर बाजार में जारी गिरावट पर आज ब्रेक लग गया और सेंसेक्स तथा निफ्टी हरे निशान में बंद होने में सफल रहा। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 160 अंकों की बढ़त के साथ 62570.68 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 48.85 अंक चढ़कर 18609.35 अंक पर रहा। इस दौरान मझौली और छोटी कंपनियों में भी लिवाली हुयी जिससे बीएसई का मिडकैप 0.43 प्रतिशत बढ़कर 26096.32 अंक पर और स्मॉलकैप 0.32 प्रतिशत उठकर 29855.79 अंक पर रहा। बीएसई में शामिल समूहों में से अधिकांश समूह हरे निशान में दिखे। कुछ समूह लाल निशान में भी रहे। बीएसई में कुल 3619 कंपनियों में कारोबार हुआ जिसमें से 1808 बढ़त में और 1681 गिरावट में रही जबकि 130 में कोई बदलाव नहीं हुआ।

वैश्विक स्तर पर अधिकांश बड़े सूचकांक लाल निशान में रहा। जापान का निक्केई 0.40 प्रतिशत, जर्मनी का डैक्स 0.34 प्रतिशत और चीन का शंघाई कंपोजिट 0.07 प्रतिशत टूट गया जबकि हांगकांग का हैंगसेंग 3.38 प्रतिशत और ब्रिटेन का एफटीएसई 0.01 प्रतिशत बढ़ गया। बीएसई का सेंसेक्स 94 अंकों की बढ़त के साथ 62504.04 अंक पर खुला। सत्र के दौरान यह 62320.18 अंक के निचले स्तर तक टूटा लेकिन लिवाली के जोर पकड़ने पर यह 62633.56 अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। सत्र के अंत में यह पिछले दिवस के 62410.68 अंक की तुलना में 0.26 प्रतिशत अर्थात 160 अंकों की बढ़त के साथ 62570.68 अंक पर रहा। सेंसेक्स में शामिल 30 कंपनियों में से 13 को लाभ हुआ जबकि 17 को नुकसान उठाना पड़ा। एनएसई का निफ्टी 10 अंकों की बढ़त के साथ 18570.85 अंक पर खुला। सत्र के दौरान यह 18625 अंक के उच्चतम और 18536.95 अंक के निचले स्तर के बीच रहा। अंत में पिछले दिवस के 18560.50 अंक की तुलना में 48.85 अंक अर्थात 0.26 प्रतिशत बढ़कर 18609.35 अंक पर रहा। निफ्टी में शामिल 50 कंपनियों शेयर बाजार के नुकसान में से 27 को लाभ हुआ जबकि 23 को नुकसान हुआ।

Share Market : शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 305.61 अंक टूटा, निफ्टी में भी गिरावट

Share Market : Sensex breaks 305.61 points in early trade, Nifty also declines

इस दौरान 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 305.61 अंक गिरकर 62,978.58 पर आ गया। व्यापक एनएसई निफ्टी 79.65 अंक टूटकर 18,732.85 पर था। सेंसेक्स में हिदुस्तान यूनिलीवर, मारुति, अल्ट्राटेक सीमेंट, महिद्रा एंड महिद्रा, एशियन पेंट्स तथा नेस्ले गिरने वाले प्रमुख शेयरों में शामिल थे। दूसरी ओर, टाटा स्टील, टेक महिद्रा, इंडसइंड बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईटीसी में बढ़त हुई।

अन्य एशियाई बाजारों में सियोल, तोक्यो, शंघाई और हांगकांग के बाजार नुकसान में कारोबार कर रहे थे। अमेरिकी बाजार भी बृहस्पतिवार को नुकसान में बंद हुए थे। पिछले कारोबारी सत्र में, बीएसई का 30 शेयरों वाला मानक सूचकांक सेंसेक्स 184.54 अंक यानी 0.29 प्रतिशत चढ़कर 63,284.19 अंक पर पहुंच गया जो इसका नया रिकॉर्ड है।

इसी तरह एनएसई का सूचकांक निफ्टी 54.15 अंक यानी 0.29 प्रतिशत की बढ़त के 18,812.50 अंक पर बंद हुआ था। अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.30 फीसदी की बढ़त के साथ 87.14 डॉलर प्रति बैरल पर था। शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने बृहस्पतिवार को शुद्ध रुप से 1,565.93 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।

RBI के ऐलान के बाद शेयर बाजार में गिरावट जारी…सेंसेक्स में 215 अंकों की जोरदार गिरावट

मुंबई। नीतिगत ब्याज दर में 0.35 प्रतिशत वृद्धि करने के भारतीय रिजर्व बैंक के फैसले से बुधवार को घरेलू शेयर बाजारों में बिकवाली का जोर रहा और सेंसेक्स लगातार चौथे कारोबारी दिवस पर 215 अंक गिरकर बंद हुआ। कारोबारियों ने कहा कि रिलायंस इंडस्ट्रीज, बजाज फिनसर्व एवं टाटा शेयर बाजार के नुकसान स्टील के शेयरों में बिकवाली होने के अलावा विदेशी निवेशकों के भी मुंह मोड़ने से घरेलू बाजारों में गिरावट रही। एशियाई बाजारों के कमजोर प्रदर्शन से भी घरेलू बाजार प्रभावित हुए।

बीएसई का 30 शेयरों पर आधारित मानक सूचकांक सेंसेक्स 215.68 अंक यानी 0.34 प्रतिशत गिरकर 62,410.68 अंक पर बंद हुआ। यह सेंसेक्स में गिरावट का लगातार चौथा सत्र रहा। इसी शेयर बाजार के नुकसान तरह एनएसई के सूचकांक निफ्टी में भी 82.25 अंक यानी 0.44 प्रतिशत की गिरावट रही और यह 18,560.50 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में से एनटीपीसी को सर्वाधिक दो प्रतिशत शेयर बाजार के नुकसान शेयर बाजार के नुकसान का नुकसान हुआ। इसके अलावा बजाज फिनसर्व, इंडसइंड बैंक, टाटा स्टील, रिलायंस इंडस्ट्रीज और सन फार्मा के शेयर भी घाटे में रहे।

दूसरी तरफ, एशियन पेंट्स, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एलएंडटी, एक्सिस बैंक और आईटीसी के शेयरों में बढ़त दर्ज की गई। भारतीय बाजारों के प्रदर्शन पर आरबीआई के रेपो दर में 0.35 प्रतिशत की बढ़ोतरी करने के फैसले का काफी असर देखा गया। मई से अब तक लगातार पांचवीं बार दर वृद्धि करने के पीछे आरबीआई ने मुद्रास्फीति को काबू करने की मंशा जताई है।

एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई, हांगकांग, सोल और टोक्यो के सूचकांकों में तगड़ी गिरावट रही। यूरोप के शेयर बाजार दोपहर के सत्र में बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 1.56 प्रतिशत की गिरावट के साथ 78.11 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर आ गया। जहां तक विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) का सवाल है तो वे पिछले कुछ दिनों से लगातार बिकवाल बने हुए हैं। उपलब्ध आंकड़़ों के मुताबिक, एफआईआई ने मंगलवार को 635.35 करोड़ रुपये मूल्य के शेयरों की शुद्ध बिक्री की।

रेटिंग: 4.93
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 376