ट्रैक्टर जंक्शन हमेशा आपको अपडेट रखता है। इसके लिए ट्रैक्टरों के नये मॉडलों और उनके कृषि उपयोग के बारे में एग्रीकल्चर खबरें प्रकाशित की जाती हैं। प्रमुख ट्रैक्टर कंपनियों स्वराज ट्रैक्टर , पॉवर ट्रैक ट्रैक्टर आदि की मासिक सेल्स रिपोर्ट भी हम प्रकाशित करते हैं जिसमें ट्रैक्टरों की थोक व खुदरा बिक्री की विस्तृत जानकारी दी जाती है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो जरूरी है Demat Account होना, जानें कैसे खुलता है, क्या होता है चार्ज

लक्ष्य शहरी आधारभूत संरचना मुहैया कराने की कंपनी बनना: दिल्ली मेट्रो के महाप्रबंधक

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) को 20 साल हो गए हैं और विकास कुमार इसके तीसरे प्रबंध निदेशक बने हैं। उन्होंने कार्यकाल तब संभाला है जब डीएमआरसी कोरोना के दौरान संचालन और वित्तीय स्थिति पर पड़े सबसे खराब प्रतिकूल असर से उबर चुका है। डीएमआरसी ने अपने राजस्व को बढ़ाने के लिए टिकटों के दामों को भी नियंत्रित रखा है और मुख्य कारोबारी विशेषज्ञता से परे नई क्षेत्रों व कारोबारों में भाग्य आजमा रही है। कुमार ने ध्रुवाक्ष साहा और श्रेया जय को दिए साक्षात्कार में डीएमआरसी की भविष्य की योजनाओं पर प्रकाश डाला। संपादित अंश:

हमने दिल्ली के सार्वजनिक यातायात को अंतरराष्ट्रीय मेट्रो रेलों के जैसा सिस्टम दिया। पहले प्रबंध निदेशक के. श्रीधरन ने रिवर्स क्लॉक सिस्टम स्थापित किया था, यह कंपनी के हरेक विभाग में आज भी प्रदर्शित किया जाता है। इसका मूल ध्येय यह था कि डिलिवरी डेडलाइन का ध्यान रहे। इससे राजस्व अधिकतम होता है और लागत भी कम आती है। इस सालों के दौरान रोलिंग स्टॉक की कीमत मुश्किल से ही बढ़ी है। हाल में एक शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? निविदा एल्सटॉम को मिली है, अगर इसकी तुलना पहले चरण से की जाए तो इसके डिब्बों में बेहतर तकनीक और मुसाफिर के लिए सुविधाएं हैं।

कोविड के दौरान आपका राजस्व बुरी तरह प्रभावित हुआ था। इससे कैसे उबर रहे हैं?

हम यात्रियों के सफर करने और राजस्व के मामले में कोरोना के पूर्व के स्तर के 90 फीसदी के करीब पहुंच गए हैं। मेट्रो में सफर करने वालों की जनसांख्यिकी में बदलाव आया है। एनसीआर क्षेत्र में विकास हो रहा शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? है और हम अधिक यात्रियों को आकर्षित कर रहे हैं। आने वाले साल में हम इस स्तर को पार कर लेंगे।
हमारी वृद्धि दर बीते दशक में सालाना करीब 13 फीसदी रही है। यह अंतरराष्ट्रीय मेट्रो सिस्टम (चीन के अलावा) की तुलना में बेहतर वृद्धि है। भविष्य की वृद्धि शहर के विकास पर निर्भर करती है। हमें उम्मीद है कि आने वाले समय में ज्यादा ट्रैफिक आएगा। शहर में नए क्षेत्रों के विकास में जहां कार्यालय व आईटी पार्क शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? बनेंगे, वहां मेट्रो के मुसाफिरों की संख्या में बढ़ोतरी होगी।

यह एक अत्यधिक पूंजी-गहन परियोजना है। अभी तक 35,000 करोड़ रुपये का कर्ज लिया जा चुका है। हम अभी तक 5,000 करोड़ रुपये का भुगतान कर चुके हैं और बाकी ऋण का भुगतान आने वाले 20 सालों में कर दिया जाएगा। इन ऋण की ब्याज दर कम है। ऋण की भारी मात्रा का अर्थ है कि हमारी किस्तें बढ़ेंगी। दुनियाभर में मेट्रो लाभ कमाने वाली नहीं हैं। हम अपने ऋण का भुगतान करने में सफल रहे हैं और इस तंत्र का संचालन कर रहे हैं। ऐसा ही करने शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? का हमारा प्रयास होगा। हम खोज रहे हैं कि कैसे टिकट की बिक्री के अलावा अन्य स्रोतों से राजस्व प्राप्त किया जा सकता है – विज्ञापन, संपत्ति को पट्टे पर देना, अकेले ही संपत्ति निर्माण, परामर्श और नागरिक आधारभूत परियोजनाओं को आगे बढ़ाना।

कौन से कारोबार के नए क्षेत्र हैं और आप उन पर कैसे ध्यान केंद्रित कर रहे हैं?

घरेलू और वैश्विक मेट्रो रेल परियोजनाओं के लिए परामर्श मुहैया करवा रहे हैं। हम इस्राइल में तेल अवीव और बहरीन के लिए बोली लगाने की कोशिश कर रहे हैं। यदि हम बोली जीत जाते हैं तो कई नए अवसर खुलेंगे। हम अन्य संगठनों के साथ गठजोड़ करेंगे जैसे हमने ढाका में किया। ढाका में स्थानीय कंपनी, हमने और जापानी कंपनी के बीच संयुक्त उपक्रम स्थापित किया।

नागरिक आधारभूत संरचना के क्षेत्र में हम पटना और मुंबई में काम कर रहे हैं। हम मेट्रो रेल के संचालन व रखरखाव के अपने अनुभव का इस्तेमाल अन्य मेट्रो कंपनियों के रखरखाव व संचालन के लिए करेंगे। हाल में मुंबई मेट्रो ने संचालन व रखरखाव के लिए निविदा जारी की थी, जिसमें हमने भी हिस्सा लिया। हम रखरखाव व संचालन के क्षेत्र में दक्षिण एशिया के बाजार पर नजर रख रहे हैं।

खाद्य तेल तिलहन की क़ीमतों में रही तेजी के बावजूद आम आदमी के लिए भी आयी राहत की बड़ी खबर

Bibha Sharma

25 दिसंबर, बीते सप्ताह दिल्ली के बाज़ारों में खाद्य तेल तिलहन की क़ीमतों में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। ज़्यादातर तेल तिलहनों के दाम बीते सप्ताहांक के मुक़ाबले लाभांश के साथ बंद हुआ। वहीं कारोबार कम होने से कच्चा पामतेल (सीपीओ) के दाम शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? में साधारण गिरावट देखने को मिली। बाजार से जुड़े सूत्रों ने कहा कि कच्चा पामतेल (सीपीओ) से पामोलीन बनाने में प्रसंस्करण करने वाली कंपनियों को नुकसान बैठता है और सही भाव न मिलने से सीपीओ तेल में गिरावट देखी गई। विदेशों में सोयाबीन तेल का भाव मजबूत हुआ है जिसका असर, देश के सरसों, मूंगफली, सोयाबीन और बिनौला जैसे शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? हल्के (सॉफ्ट) खाद्यतेलों पर भी हुआ और इनके तेल तिलहनों के भाव चढ़ गए।

टाटा के इन 3 शेयरों में पैसा लगाने वाले हो जाये अलर्ट जाएं! इस साल करवाया करोड़ों का नुकसान

शेयर बाजार में हजारों की संख्या में शेयर मौजूद है. इन शेयरों में कई शेयर लगातार ऊपर जा रहे हैं तो कई शेयर लगातार नीचे ही गिरते जा रहे हैं. वहीं अब साल 2022 खत्म होने वाला है. ऐसे में इस साल कई शेयर ऐसे भी है जिन्होंने सिर्फ पैसा बरसाया है या फिर सिर्फ पैसा डुबाया है.

tata

Newz Fast New Delhi इन्हीं में टाटा ग्रुप के भी तीन शेयर शामिल हैं. इन तीनों कंपनियों के शेयरों ने इस साल लोगों का करोड़ों रुपयों का नुकसान किया है. आइए जानते हैं इनके बारे में.

टाटा मोटर्स

टाटा ग्रुप में टाटा मोटर्स कंपनी का अहम रोल है. हालांकि इस साल कंपनी के शेयर में भारी गिरावट देखने को मिली है. इस साल 26 दिसंबर 2022 तक टाटा मोटर्स के शेयर में 22 फीसदी की भारी गिरावट देखने को मिली है.

कौन खोलेगा डीमैट खाता

इंडिया में डीमैट खाता खोलने का काम दो संस्थाएं करती है. जिसमें पहली है NSDL (National Securities Depository Limited) और दूसरी है CDSL (central securities depository limited). 500 से अधिक एजेंट्स इन depositories के लिए काम करते है, जिनको आम भाषा में डीपी भी कहा जाता है. इनका काम डीमैट अकाउंट खोलना होता है.

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी शर्त होती है कि जो व्यक्ति शेयर ट्रेडिंग के लिए डीमैट अकाउंट खुलवा रहा हो उसकी उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए. साथ ही इसके लिए उस व्यक्ति के पास पैन कार्ड, बैंक अकाउंट आइडेंटिटी और एड्रेस प्रूफ होना जरूरी है.

क्या है छत्‍तीसगढ़ राज्‍य ग्रामीण आजीविका योजना?

छत्तीसगढ़ राज्‍य ग्रामीण आजीविका योजना को पूरे राज्‍य में बिहान योजना के नाम से भी जाना जाता है। बिहान योजना मूल रूप से छत्तीसगढ़ के ग्रामीण इलाकों में आजीविका की गारंटी विकल्‍प सुनिश्चित करना है। इस योजना के तहत प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में रहने वाली महिलाओं व पुरुषों के लिए विभिन्‍न प्रकार के रोजगार का सृजन व आजीविका के नए- नए साधन स्थापित किए जा रहे हैं। इस योजना के तहत सरकार स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को कृषि सखी, पशु सखी ,महिला किसान क्रेडिट कार्ड ,बैंक सखी ,बकरी पालन समूह , मधुमक्‍खी पालन समूह, न्‍यूट्री गार्डन प्रमोशन समूह , बैंक मित्र आदि क्षेत्रों में सरकार रोजगार के अवसर शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? उपलब्ध करवाती हैं।
छत्‍तीसगढ़ राज्‍य ग्रामीण आजीविका योजना ( बिहान योजना) के उद्देश्य

  • बिहान योजना का मुख्‍य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले परिवारों की आय में वृद्धि करके सालाना 1 लाख रुपए के ऊपर ले जाना है।
  • राज्‍य के प्रत्‍येक निर्धन परिवार से कम से कम 1 महिला को अनिवार्य रूप से बिहान योजना छत्तीसगढ़ के तहत संचालित स्‍वयं सहायता समूहों के साथ जोड़ना।
  • स्‍वयं सहायता समूहों की ग्रामीण महिलाओं का सर्व भौमिक सामाजिक संगठन तथा सामुदायिक संस्‍थाओं का गठन करके नियमित उनका मार्गदर्शन करना।
  • योजना के तहत समूहों का संघ बना कर महिलाओं को उचित मौके प्रदान करना।
  • बिहान बाजार जैसे कार्यक्रमों के जरिये महिलाओं को उत्‍पादन तथा बिक्री के लिये बाजार उपलब्‍ध करवाना।
  • ग्रामीण स्‍तर पर नये रोजगार सृजन करके महिलाओं को रोजगार प्रदान करना।

बिहान योजना के अंतर्गत महिलाओं को मिल रहा लाभ

छत्तीसगढ़ सरकार की इस योजना का लाभ लेकर महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही हैं। प्रदेश सरकार राज्य में मछली पालन व बतख पालन की इच्छुक महिलाओं को मछली व बतख उपलब्ध करवा रही हैं जिससे महिलाओं को सालाना लाखों रुपए की आमदनी हो रही हैं। गांव की महिलाएं स्वयं सहायता समूहों से जुड़कर तालाब में मछली पालन करने के साथ-साथ बतख का पालन भी कर रही हैं जिससे महिलाओं की आमदनी बढ़ रही हैं।

मछली पालन की और अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें ।

बत्तख-मछली पालन एक साथ करने के फायदे

ग्रामीण क्षेत्रों में तालाब में जहां भी पानी भरा होता है, वहां आपको बत्तखों का झुंड अक्सर देखने को मिल जाएगा। अगर मछली पालन के साथ बत्तख पालन किया जाए तो दोनों ही व्यवसायों को एक-दूसरे से सहयोग मिलता है और उत्पादन लागत में भी कमी आती है।
मछली शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? के आहार पर भी आपको लगभग 70 प्रतिशत तक कम खर्च करना पड़ेगा और बत्तख तालाब की गंदगी को खाकर उसकी साफ़-सफ़ाई भी कर देते हैं। बत्तखों के पानी में तैरने से तालाब में ऑक्सीज़न लेवल भी बढ़ता है। इससे मछलियों का भी अच्छी तरह से विकास होता है।

अगर आप भी मछली पालन करने के साथ-साथ बत्तख पालन करना चाहते हैं तो इसमें बारहमासी तालाबों का चयन किया जाता है, तालाब की गहराई कम से कम 1.5 मीटर से 2 मीटर तक की होनी चाहिए। 2 वर्ग फ़ीट प्रति बत्तख की जगह के अनुसार, तालाब के ऊपर या किसी किनारे बत्तख के लिए घर बना सकते हैं। बत्तख दिन में तालाबों में घूमते हैं और रात में उन्हें आराम करने के लिए घर की ज़रूरत होती है। तालाब पर बांस व लकड़ी से बत्तख के लिए बाड़ा बनाना चाहिए। बाड़े हवादार के साथ-साथ सुरक्षित भी होने चाहिए।
बत्तखो में ‘इंडियन रनर’ की प्रजाति सबसे अच्छी मानी जाती शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? है। अंडों के लिए ‘खाकी कैम्पबेल’ सबसे अच्छी प्रजाति मानी जाती है। इनसे साल भर में लगभग 240 से 260 शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? तक अंडे मिल जाते हैं। आमतौर पर बत्तखें 24 सप्ताह की उम्र के बाद अंडे देना शुरू कर देती हैं। एक बत्तख 2 साल तक अंडे देती हैं। अगर एक एकड़ का तालाब है तो आसानी से आप 250 से 300 बत्तख पाल सकते हैं।

बत्तख व मछली पालन के लिए आहार प्रबंधन

अगर आप बत्तख व मछली पालन एक साथ करते हैं तो आहार पर आपको लगभग 30 प्रतिशत कम खर्च आएगा। बत्तख को 120 ग्राम दाना रोज देना ज़रूरी होता है, लेकिन मछली के साथ बत्तख पालन में 60 से 70 ग्राम दाना देकर आप आहार की मात्रा पूरी कर सकते हैं। इसके अलावा, बत्तख के पानी में तैरने से पानी का ऑक्सीजन लेवल अच्छा रहता है, जो मछलियों के लिए बहुत ज़रूरी होता है। साथ ही बत्तख के बीट से मछलियों को भोजन मिल जाता है, यानी उनके आहार पर भी कम खर्च होता है। मछलियों को भोजन में सरसों की खली, धान की भूसी, मिनरल मिक्स्चर, घास बरसीम, जई, सब्जी का छिलका और बाज़ार में तैयार फ़ीड देनी चाहिए। इन सबको आप बोरे में बंडल बनाकर आधा तालाब में डूबोकर रस्सी से बांधकर लटका भी सकते हैं।

एक मछली 6 से 9 महीने के अंदर एक से 1.5 किलो वजन तक की हो जाती हैं। एक एकड़ तालाब के क्षेत्र में 20 से 25 क्विंटल मछली का उत्पादन आसानी से हो जाता है, जिससे 5 से 6 लाख रुपए का मुनाफ़ा कमाया जा सकता है। वहीं दूसरी तरफ़ बत्तख पालन से सालाना 3 से 4 लाख रुपए आसानी से कमाएं जा सकते हैं। शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? शेयर बाजार में खरीद बिक्री कैसे होता है? भारत की बात करें तो बत्तख पालन अंडा और मीट के लिए पूर्वी भारत के पूरे इलाक़े में काफ़ी प्रचलित व्यवसाय है। बत्तख पालन करने वाले किसान बत्तख के अंडे पूर्वी भारत के राज्यों में भेजकर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

रेटिंग: 4.49
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 496